Non Violence Essay In Hindi

Non-Violence

POINTS TO DEVELOP

  1. Many great people have emphasised on the importance of non-violence.
  2. Various interpretations of the term.
  3. Non-violence, like other benevolent principles Cannot I be taken to the extreme.
  4. Gandhi’s Ahinsa.
  5. Violence has increased in the world today.
  6. Relevance of non-violence today.

“NON-VIOLENCE IS THE LAW OF SPECIES AS VIOLENCE IS THE LAW OF BRUTE”—

so spoke Mahatma Gandhi, celebrating the need and nature of the principle of non-violence for mankind. All wise men down the ages have preached the doctrine ,of love and non-violence. Zoroaster, Buddha, Mahavira, Christ, Nanak primarily emphasised a moral code that gave due status to non-violence. Non-violence is a philosophy of life, a modus operand which has been accepted as an article of faith in the East as well as the West. But what does the word ‘non-violence’ mean in simple terms? To what extent can and should non-violence be exercised in daily life? And is it not true that the world today is in dire need of nonviolence?

Non-violence has been variously interpreted by different people including philosophers and scholars. Generally, the term means ‘non-injury’ to others. It is a concept based on the fundamental goodness of man. In the fight for what is right and good-freedom, morality, justice and equality, violence must be avoided. All these are to be gained by avoiding use of physical force. One must avoid inflicting pain on others to win one’s goal however true and justifiable it may be. Evil must be resisted in a calm manner and not through violence in thought or action. For almost always violence begets violence-and there will be no end to it. The path of non-violence calls for a great amount of fortitude on the part of the person practicing it to achieve the best of goals. It also calls for courage and a lot of self-sacrifice. Thus non-violence, as Gandhi said, is not the weapon of the coward but of the strong. But to what extreme can the principle of non-violence be extended?

Just like other benevolent principles, non-violence fails to make sense once you take it to an extreme. It is not possible for man to exist at all if he is to ensure that he does not harm or injure a single animal, plant or micro-organism throughout his life. We breathe-and in the mere act of breathing we kill a number of germs and bacteria that cannot be seen by the naked eye. We walk-and the mere act of walking crushes innumerable small, microscopic organisms that abound on the soil. Moreover, injury by itself need not be solely physical in nature; it can be emotional and mental as well. There are no standard and practicable measures by which we can gauge the extent to which an act may cause mental and emotional harm.

Aggression between humans can be repulsed and checked by non-violence. But where the aggressor has no regard for the resulting destruction and bloodshed, total non-violence would only invite aggression. It must be remembered that even Gandhi, the modern profounder of the gospel of ‘non-violence’, allowed the use of violent weapons in the fight for right goals if there was a need.

Mahatma Gandhi is considered the apostle of non-violence. Truly, be expanded the concept so that nonviolence as a principle acquired a totally new meaning and dimension. For him, the path of ahinsa or non-violence was the only way to achieve freedom and truth which was the supreme reality for him. He explained how ahinsa was an active force and not simply a term passive in its meaning. The light through ahinsa was a legitimate struggle that demanded a lot of merit and virtue on the part of its followers. Ahinsa, for Gandhi, was not cowardice. Gandhi encouraged the use of ahinsa so that its practice on an individual level might finally enhance its significance for the nation as a whole-for only individuals constitute a nation! The effectiveness of the message of non-violence preached by Gandhi can be gauged from responses all over the globe-we have self-professed students of the Mahatma in leaders like Aung San Suu Kyi and Nelson Mandela.

In these modern times, it is violence that has emerged as one of the most common causes of human suffering. The pursuit of material benefits has resulted in growing conflicts between individuals, groups and nations New forms of violence have thus emerged. Highly sophisticated and lethal chemical and nuclear weapons have opened up ways .to inflict a maximum of destruction and damage. In truth, one ought to blame the modern ways of living for the violent tendencies that have taken strong roots in man. There is less of patience, perseverance, true courage, dedication and absolutely no sense of values at all. Man today is lost; and wandering souls can be easily misled in the name of anything. Violence has grown to such an extent today that it has almost acquired some kind of legitimacy. One fears that the growing violent attitude will ultimately wipe out mankind as a whole!

The world is desperately in need of non-violence as a way of life, to spread the gospel of love, brotherhood and peace. Man must awaken and realise that the world of violence in which he is living can blow up on his face at any time. Before time runs out, man must realise the folly of indulging in violence and give it up. Only the path of non-violence can truly provide mankind release from all ills and bring about harmony in the world. Only non- violence can restore sanity around us.

January 28, 2017evirtualguru_ajaygourEnglish (Sr. Secondary), LanguagesNo CommentEnglish 10, English 12, English Essay Class 10 & 12, English Essay Graduation

About evirtualguru_ajaygour

The main objective of this website is to provide quality study material to all students (from 1st to 12th class of any board) irrespective of their background as our motto is “Education for Everyone”. It is also a very good platform for teachers who want to share their valuable knowledge.

International Non Violence Day Ahinsa Divas Nibandh (Essay) Quotes In Hindi अन्तराष्ट्रीय अहिंसा शांति दिवस पर निबंध एवम अनमोल वचन इस आर्टिकल में लिखे गए हैं | शेयर जरुर करें |

जनवरी 2004 में ईरानी नोबेल पुरस्कार विजेता शिरीन इबादी ने स्टूडेंट्स को अहिंसा के महत्व बताने के लिए अन्तराष्ट्रीय अहिंसा दिवस की बात सभी के सामने रखी | जब यह बात भारत तक पहुँची तब कांग्रेस पार्टी सत्ता में थी और इसी कारण कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी ने यह बात उचित लगी | समर्थन मिलने पर भारत के विदेश मंत्री ने इसे  सयुंक्त राष्ट्र संघ के सामने रखा जिसके लिए विधिवत वोटिंग की गई | इस प्रस्ताव को सामने आने के बाद 191 देशो में से 140 देशो ने इस बात का समर्थन किया जिसके बाद 15 जून 2007 में गाँधी जयंती को अंतराष्ट्रीय स्तर पर अहिंसा दिवस घोषित किया गया | महात्मा गाँधी जयंती पर भाषण निबंध कविता एवं जीवन परिचय जानने के लिए पढ़े.

अहिंसा दिवस पर निबंध भाषण

Ahinsa Divas Nibandh Bhashan

अन्तराष्ट्रीय अहिंसा दिवस (Vishwa Ahinsa Diwas)

2 अक्टूबर 1969 को गाँधी जी का जन्म हुआ था, वे अहिंसा के परिचायक थे इतिहास में वही एक ऐसे नेता रहे जिन्होंने अहिंसा एवम सत्य की ताकत को चरितार्थ कर सबके सामने उदाहरण पेश किया, इसलिए उनके जन्म दिन को अहिंसा दिवस के रूप में मनाया जाने लगा |

कब मनाया जाता है2 अक्टूबर
किसकी याद में मनाया जाता हैमहात्मा गाँधी जी के जन्म दिवस के उपलक्ष्य में
कब से शुरू हुआ है15 जून, 2007

अहिंसा जिसका शाब्दिक अर्थ हैं बिना हिंसा की प्रवत्ति | यह शब्द सुनने में आसान होगा, लेकिन जीवन की कठिनाईयों से जूझते हुए इसका पालन करना अत्यंत कठिन हैं |

आज के समय में हिंसा इतनी बढ़ गई हैं कि जानवरों की छोड़ो मनुष्यों को काटने से पहले कोई एक बार नहीं सोचता | ऐसे में आने वाली पीढ़ी को अहिंसा का महत्व कैसे पाता चलेगा ? इसी बात को ध्यान में रखते हुए शिरीन इबादी जो कि नोबल प्राइज विजेता हैं, ने इस बात पर प्रकाश डाला था |

सत्य एवम अहिंसा में बहुत बल हैं इसे ही कहा जाता हैं काम न होने पर ऊँगली टेड़ी करना अर्थात अहिंसा में ही वो शक्ति हैं जो किसी भी कार्य को करने में तत्पर हैं |

हिंसात्मक रवैये से इंसान को जीत तो हासिल हो जाती हैं लेकिन आत्मीय शांति कभी नहीं मिलती और सही जीवन व्यापन के लिए आत्मीय शांति जरुरी हैं |

इसका एक उदाहरण हैंसम्राट अशोक का जीवन | सम्राट अशोक ने कई युध्द किये | चकवर्ती राजा बने | भारत पर अपनी विजय का पताका फैलाया, लेकिन अन्नतः उन्हें सुख की प्राप्ति नहीं हुई और उन्होंने अहिंसा का परिचायक बनना स्वीकार कर बौध्द धर्म को अपनाया | तब उन्हें वह सुख प्राप्त हुआ, जो उन्हें राजकीय ऐशो आराम में भी नहीं मिला था |

आज व्यक्ति अहिंसा के महत्त्व को नहीं समझता उसे इतिहास के ये बड़े उदहारण एक फिल्म की कहानी की तरह ही लगते हैं |

गाँधी जी का जीवन भी सामान्य था, लेकिन सामने खड़ी विपत्ति से लड़ने के लिए उनके पास दो रास्ते थे एक हिंसा, एक अहिंसा | उन्हें अहिंसा को चुना | उनका मानना था शांति में जो ताकत है, वो युद्ध में नहीं हैं कई लोगों ने उनकी बातों का विरोध किया, लेकिन गाँधी जी अपने सिधांतों से पीछे नहीं हटे | अपने सिधान्तो के कारण उन्होंने भगत सिंह, राज गुरु एवम सुख देव की फांसी स्वीकार की, क्यूंकि उनकी नज़रों में उन्होंने हिंसा का जवाब हिंसा से दिया | उन्होंने अपने पुरे जीवन काल में अहिंसा का दामन नहीं छोड़ा, उनके इसी निश्चय इरादों के कारण उनके साथ देश की आवाम खड़ी, जिसने गाँधी जी के स्वतंत्र भारत के स्वपन को पूरा किया |

गाँधी जी के इसी सिधांत पर कुछ वर्षो पहले एक फिल्म बनी जिसका नाम था लगे रहो मुन्ना भाई था | विधु विनोद चौपड़ा की इस फिल्म में जो छोटे- छोटे भाग थे | उन्हें देखकर सच में यह कहा जा सकता हैं कि अहिंसा में ताकत होती हैं | मानाकि वह फिल्म हैं लेकिन असल जिन्दगी में भी अगर आप आजमा कर देखे, तो कई बाते बिना लड़ाई झगड़े के सुलझ जाती हैं, जैसे रोजाना एक व्यक्ति दुसरे के घर के सामने पान का पीप थूकता हैं, वो व्यक्ति उससे रोज लड़ता लेकिन वो नहीं सुनता पर जिस दिन उस व्यक्ति ने बिना लड़ाई किये शांति से उस स्थान को साफ़ करना शुरू किया थूकने वाले व्यक्ति को खुद ही अपने कर्मो पर शरम आ गई और उसने वो आदत सुधार ली जो काम लड़कर नहीं हो पाया वो शांति से हो गया |

आज के समय में हिंसा बहुत तेजी से बढ़ रही हैं | इससे किसी का फायदा नहीं हैं इसलिए जरुरी हैं कि आने वाली पीढ़ी को अहिंसा का मार्ग दिखाया जाये | इसके लिए माता-पिता, स्कूलों, शिक्षको एवम फिल्म इंडस्ट्री को जागने की जरूरत हैं क्यूंकि ये ही हैं जो आने वाली पीढ़ी को सबसे ज्यादा प्रभावित करते हैं |आज के नौजवान को अहिंसा का मार्ग दिखाना बहुत जरुरी हैं | साथ ही देशो को भी इससे सीख लेने की जरुरत हैं | हिंसा से केवल व्यक्ति का नहीं देश का भी अहित होता हैं |

आज आपसी बैर के कारण राज्यों एवम देशो की सीमाओं पर सुरक्षा की दृष्टि से जितना व्यय हो रहा हैं | अगर उतना देश के विकास में लगाये तो देश में कोई भूखा ना सोये |हिंसा की प्रवत्ति इतनी बढ़ गई हैं कि देश भोजन एवम परमाणु के स्थान पर परमाणु को अधिक महत्व देने लगे हैं | करे भी तो क्या मुहं खोलते ही हिंसा युद्ध की बात करते हैं | ऐसे में आने वाली पीढ़ी को क्या संदेश जायेगा | ऐसा ही चलता रहा तो एक दिन इस धरती पर मनुष्य ही मनुष्य को ख़त्म कर मानव जाति का अस्तित्व मिटा देगा |

ऐसे में अहिंसा दिवस (Ahinsa Divas )को बड़े स्तर पर मनाया जाना चाहिये | गौरव की बात हैं कि इस दिवस के लिए हमारे देश के राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी को आधार बनाया गया |

भारत देश में जैन धर्म एवम बोध्द के प्रवर्तक महावीर भगवान् एवम बुद्ध भगवान् ने सत्य एवम अहिंसा के सिधांत का महत्व सदैव सभी के सामने रखा | भगवान् बुद्ध का जीवनभी अहिंसा के पथ पर मिली शांति का एक उदाहरण हैं |

इसी प्रकार विदेशो में मार्टिन लूथर किंग, नेल्सन मंडेला आदि हैं जिन्होंने अहिंसा के मार्ग पर चलकर उदाहरण रखे |

अहिंसा दिवस अनमोल वचन (International Non Violence day Ahinsa Divas Hindi Quotes)

1क्रोध एवम घमंड के भाव ही अहिंसा के सबसे बड़े शत्रु हैं |
2अहिंसा एक वस्त्र नहीं जिसे जब चाहा धारण कर लिया यह एक भाव हैं जो मनुष्य के ह्रदय में बसता हैं |
3अहिंसा एक ऐसा रास्ता हैं जिसमे कदम कभी नहीं डगमगाते |
4अहिंसा ही एक ऐसा घात हैं जो बिना रक्त बहाये गहरी चोट देता हैं |
5युद्ध की तरफ जाना किसी समस्या का हल नहीं हैं शांति के मार्ग पर ही समस्या का समाधान मिलता हैं |
6अहिंसा दिमागी व्यवहार नहीं अपितु मानसिक विचार हैं
7ऐसी कोई समस्या नहीं जिसका समाधान अहिंसा के मार्ग पर नहीं मिलता |
8आज के वक्त में अहिंसा बस किताबी पन्नो में दफ्न हो गई हैं जबकि इसकी जरुरत आज ही सबसे ज्यादा हैं |
9ईश्वर में अविश्वास रखने वाला ही अहिंसा के विषय में सवाल करता हैं |
10सत्य, अहिंसा का मार्ग जितना कठिन हैं उसका अन्त उतना ही सुगम और आत्मा को शांति पहुँचाने वाला हैं |

अहिंसा पर लिखे अनमोल वचन आपके सामने अहिंसा के महत्व को उजागर करते हैं | 2 अक्टूबर अन्तराष्ट्रीय अहिंसा शांति दिवस (Antarashtriya Ahinsa Divas) के दिन हम सभी को अपने भीतर अहिंसा के विचार का मंथन करना चाहिये ताकि हम आने वाली पीढ़ी को एक सुखद जीवन दे सके |

Karnika

कर्णिका दीपावली की एडिटर हैं इनकी रूचि हिंदी भाषा में हैं| यह दीपावली के लिए बहुत से विषयों पर लिखती हैं |यह दीपावली की SEO एक्सपर्ट हैं,इनके प्रयासों के कारण दीपावली एक सफल हिंदी वेबसाइट बनी हैं

Latest posts by Karnika (see all)

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *